प्रथम शासकीय सामान्य निकाय बैठक

प्रथम शासकीय सामान्य निकाय बैठक
सोमवार दिनांक 05/01/09 को सरकार ने राष्ट्रीय डोप परीक्षण प्रयोगशाला (राडोपप्र) की वार्षिक परीक्षण क्षमता बढ़ाने के लिए 10 करोड़ रुपये को मंजूरी दी थी और अब ये दुनिया की अग्रणी डोप परीक्षण प्रयोगशालाओं में से एक हैं।
यह निर्णय खेल मंत्री एम एस गिल ने लिया, जिन्होंने राडोपप्र की जनरल बॉडी और गवर्निंग बॉडी की पहली बैठक की अध्यक्षता की थी।
वर्तमान में, राडोपप्र सालाना करीब 2000 नमूनों का परीक्षण कर रहा है, जो वाडा नियमों के मुताबिक वर्तमान कैलेंडर वर्ष 2009 में 3,000 तक बढ़ाया जाना प्रस्तावित है, और जिसे 2010 में 5000 नमूनों में बढ़ाया जाना है।
बैठक में कई अन्य फैसले किए गए, जिसमें वैज्ञानिक और प्रशासनिक कर्मचारियों के 18 नवगठित पदों के लिए भर्ती नियमों का अनुमोदन, नमूनों के परीक्षण के लिए टैरिफ संरचना का अनुमोदन और राडोपप्र में ईपीओ, रक्त और विकास हार्मोन परीक्षण भी शुरू करना शामिल है।
डॉ गिल ने राडोपप्र, राष्ट्रीय डोपिंग एजेंसी (नाडा), भारतीय ओलंपिक संघों के बीच समन्वयित प्रयासों की आवश्यकता पर बल दिया ताकि भारत में स्वच्छ खेल को बढ़ावा मिले।
ईपीओ, रक्त और विकास हार्मोन परीक्षण की आवश्यकता को ध्यान में रखते हुए, इस उद्देश्य के लिए अतिरिक्त कर्मचारियों और उपकरणों को भी शासी निकाय द्वारा अनुमोदित किया गया था, जो वाडा ने हाल ही में 2009 के अंत तक सभी मान्यता प्राप्त प्रयोगशालाओं को प्राप्त करने के लिए अनिवार्य कर दिया है।